Most Trusted Portal for Booking Puja Online Festival Puja || ओम जय जगदीश हरे-पं. श्रद्धाराम शर्मा या श्रद्धाराम फिल्लौरी || भगवान विष्णु आरती ||

|| ओम जय जगदीश हरे-पं. श्रद्धाराम शर्मा या श्रद्धाराम फिल्लौरी || भगवान विष्णु आरती ||

Vishnu JI with his wife Laxmi ji

 

||  आरती ओम जय जगदीश हरे  ||

 

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

VIshnu

 

जो ध्यावे फल पावे,दुःख बिनसे मन का,
स्वामी दुःख बिनसे मन का ।सुख सम्पति घर आवे,
सुख सम्पति घर आवे,कष्ट मिटे तन का ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

मात पिता तुम मेरे,शरण गहूं किसकी,
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।तुम बिन और न दूजा,
तुम बिन और न दूजा,आस करूं मैं जिसकी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

तुम पूरण परमात्मा,तुम अन्तर्यामी,
स्वामी तुम अन्तर्यामी ।पारब्रह्म परमेश्वर,
पारब्रह्म परमेश्वर,तुम सब के स्वामी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

तुम करुणा के सागर,तुम पालनकर्ता,
स्वामी तुम पालनकर्ता ।मैं मूरख फलकामी,
मैं सेवक तुम स्वामी,कृपा करो भर्ता॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

तुम हो एक अगोचर,सबके प्राणपति,
स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय,
किस विधि मिलूं दयामय,तुमको मैं कुमति ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता,ठाकुर तुम मेरे,
स्वामी रक्षक तुम मेरे ।अपने हाथ उठाओ,
अपने शरण लगाओ,द्वार पड़ा तेरे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

 

विषय-विकार मिटाओ,पाप हरो देवा,
स्वमी पाप(कष्ट) हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,सन्तन की सेवा ॥

 

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥

 

 

ऐसे हि मिनी ब्लॉग्स के लिए हमें फॉलो करें @PujaArti 

कृपया अपनी राय नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अवश्य दें|

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Guru Nanak Ji

|| इक ओंकार सतनाम करता पुरख |||| इक ओंकार सतनाम करता पुरख ||

|| इक ओंकार ||     इक ओंकार सतनाम करता पुरख निर्मोह निर्वैर अकाल मूरत अजूनी सभम गुरु परसाद जप आड़ सच जुगाड़ सच है भी सच नानक होसे भी

Brahma ji

|| ब्रह्मा गायत्री मंत्र || ब्रह्म गायत्री मंत्र के लाभ |||| ब्रह्मा गायत्री मंत्र || ब्रह्म गायत्री मंत्र के लाभ ||

|| ब्रह्मा गायत्री मंत्र ||   ॐ वेदात्मने विद्महे हिरण्यगर्भाय धीमहि तन्नो ब्रह्म प्रचोदयात्॥ ॐ चतुर्मुखाय विद्महे कमण्डलु धाराय धीमहि तन्नो ब्रह्म प्रचोदयात्॥ ॐ परमेश्वर्याय विद्महे परतत्वाय धीमहि तन्नो ब्रह्म