Most Trusted Portal for Booking Puja Online Durga Puja,Uncategorized श्री राम स्तुती | श्री राम चन्द्र कृपालु भजु मन

श्री राम स्तुती | श्री राम चन्द्र कृपालु भजु मन

श्री राम स्तुती

श्री राम स्तुती

दोस्तों श्री राम जी की स्तुती मन को शांती प्रदान करना वाला है | इसके स्मरण से मानसिक व्यथा से मुक्ती मिलती है | यह मन मे आनेवाला दु़स्वृतीयों को नाश करने वाला है | वेद मार्ग से भटके हुए लोगों का रास्ते पर लाना वाला है | मेरा मानिए तो यह भय तथा रोग दोनों से छुटकारा देने वाला है | कृप्या इसे कंठस्थ याद कर लें

श्री राम चन्द्र कृपालु भजु मन हरण भव भय दारुणं |  नवकंज लोचन कंज मुख कर कंज पद कंजारुणं  ||

कंदर्प अगणितअमित छवि नव नील नीरद सुन्दरम| पट पीत मानहु तड़ित रूचि शुची नौमी जनक सुता वरं||

श्री राम वंदना

भजु दीन बंधू दिनेश दानव दैत्य वंश निकन्दनम   |   रघु नन्द आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनं    ||

सिर मुकुट कुंडल तिलक चारू उदारु अंग विभूसनम  |  आजानुभूज सर चाप धर संग्राम जित खर दूषनम् ||

इती वदती तुलसी दाश शंकर शेश मुनी मन रंजनम| मम हृदय कंज निवास कूरु कामादी खल दल गंजनम्||

श्री राम चन्द्र कृपालु

PujAarti.Com ऐसे हि प्रातः स्मरणिय भजन और स्तुती आपके लिए लाता रहेगा | कृपया अपनी राय कमेंट बॉक्स में अवश्य दें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Ram ji

रघुपति राघव राजाराम- श्रीलक्ष्मणाचार्यरघुपति राघव राजाराम- श्रीलक्ष्मणाचार्य

रघुपति राघव राजाराम- श्रीलक्ष्मणाचार्य   रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम गंगा तुलसी शालग्राम ॥ भद्रगिरीश्वर सीताराम भगत-जनप्रिय सीताराम ॥ जानकीरमणा सीताराम जयजय राघव सीताराम ॥

ब्रह्मचारिणी माता की फोटो

नवरात्र का दूसरा दिन – माता ब्रह्मचारिणी कथा, पूजा विधि तथा मंत्रनवरात्र का दूसरा दिन – माता ब्रह्मचारिणी कथा, पूजा विधि तथा मंत्र

कौन है मां ब्रह्मचारिणी? माँ दुर्गा की नवशक्तियों का दूसरा स्वरूप माता ब्रह्मचारिणी का है। नवरात्रि के दूसरे दिन माता ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। ब्रह्मचारिणी अर्थात ब्रह्म + चारिणी,

नवरात्रि के 9 दिन का भोग 2021, किस दिन क्या भोग लगाएं

नवरात्रि के 9 दिन का भोग 2022 , किस दिन क्या भोग लगाएंनवरात्रि के 9 दिन का भोग 2022 , किस दिन क्या भोग लगाएं

नवरात्रि पर्व पर माता की आराधना के साथ ही व्रत-उपवास और पूजन का विशेष महत्व है। जिस प्रकार नवरात्रि के नौ दिन, मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा की