Most Trusted Portal for Booking Puja Online Festival Puja सरस्वती माँ की आरती I जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

सरस्वती माँ की आरती I जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

Saraswati Maa KI aarti

सरस्वती माँ की आरती हम ज्ञान और वृद्धि प्राप्त करने के लिए करते हैं।
ज्ञान की देवी सरस्वती माँ की आरती नित प्रतिदिन करनी चाहिए।
इससे हमारे ज्ञान में वृद्धि होती है, मन सांत रहता है।

 


सरस्वती माँ की आरती

 

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।
सद्गुण, वैभवशालिनि, त्रिभुवन विख्याता ।।जय.।।

चन्द्रवदनि, पद्मासिनि द्युति मंगलकारी।
सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी।। जय.।।

बायें कर में वीणा, दूजे कर माला।
शीश मुकुट-मणि सोहे, गले मोतियन माला ।।जय.।।

देव शरण में आये, उनका उद्धार किया।
पैठि मंथरा दासी, असुर-संहार किया।।जय.।।

वेद-ज्ञान-प्रदायिनी, बुद्धि-प्रकाश करो।।
मोहज्ञान तिमिर का सत्वर नाश करो।।जय.।।

धूप-दीप-फल-मेवा-पूजा स्वीकार करो।
ज्ञान-चक्षु दे माता, सब गुण-ज्ञान भरो।।जय.।।

माँ सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावे।
हितकारी, सुखकारी ज्ञान-भक्ति पावे।।जय.।।

 

ऐसे हि मिनी ब्लॉग्स के लिए हमें फॉलो करें @PujaArti 

कृपया अपनी राय नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अवश्य दें|

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Vishnu JI with his wife Laxmi ji

|| ओम जय जगदीश हरे-पं. श्रद्धाराम शर्मा या श्रद्धाराम फिल्लौरी || भगवान विष्णु आरती |||| ओम जय जगदीश हरे-पं. श्रद्धाराम शर्मा या श्रद्धाराम फिल्लौरी || भगवान विष्णु आरती ||

ॐ   ||  आरती ओम जय जगदीश हरे  ||   ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे । भक्त जनों के संकट,दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे

Brahma ji

|| ब्रह्मा गायत्री मंत्र || ब्रह्म गायत्री मंत्र के लाभ |||| ब्रह्मा गायत्री मंत्र || ब्रह्म गायत्री मंत्र के लाभ ||

|| ब्रह्मा गायत्री मंत्र ||   ॐ वेदात्मने विद्महे हिरण्यगर्भाय धीमहि तन्नो ब्रह्म प्रचोदयात्॥ ॐ चतुर्मुखाय विद्महे कमण्डलु धाराय धीमहि तन्नो ब्रह्म प्रचोदयात्॥ ॐ परमेश्वर्याय विद्महे परतत्वाय धीमहि तन्नो ब्रह्म

लक्ष्मी जी की आरती Iलक्ष्मी जी की आरती I

लक्ष्मी जी की आरती ॐ जय लक्ष्मी माता मैया जय लक्ष्मी माता तुमको निशदिन सेवत मैया जी को निशदिन सेवत हरि विष्णु विधाता ।।ॐ जय लक्ष्मी माता।। उमा रमा ब्रह्माणी