Most Trusted Portal for Booking Puja Online Uncategorized भोजन मन्त्र: I ॐ सह नाववतु I

भोजन मन्त्र: I ॐ सह नाववतु I

Bhojan Thalli

 

अन्न ग्रहण करने से पहले
विचार मन मे करना है
किस हेतु से इस शरीर का
रक्षण पोषण करना है
हे परमेश्वर एक प्रार्थना
नित्य तुम्हारे चरणों में
लग जाये तन मन धन मेरा
विश्व धर्म की सेवा में ॥

 

Bhojan

 

भोजन मन्त्र: ॐ सह नाववतु

 

ब्रह्मार्पणं ब्रह्महविर्ब्रह्माग्नौ ब्रह्मणा हुतम्।
ब्रह्मैव तेन गन्तव्यं ब्रह्मकर्म समाधिना।।

ॐ सह नाववतु।
सह नौ भुनक्तु।
सह वीर्यं करवावहै।
तेजस्विनावधीतमस्तु।
मा विद्‌विषावहै॥
ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति:॥

 

 

ऐसे हि मिनी ब्लॉग्स के लिए हमें फॉलो करें @PujaArti 

कृपया अपनी राय नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अवश्य दें|

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

Saraswati Maa

सरस्वती पूजा विधि मंत्र I घर पर ऐसे करें मां शारदे की पूजा Iसरस्वती पूजा विधि मंत्र I घर पर ऐसे करें मां शारदे की पूजा I

 सरस्वती पूजा विधि मंत्र घर पर ऐसे करें मां शारदे की पूजा   हर साल की तरह माघ मास की पंचमी के दिन ज्ञान की देवी की पूजा श्रद्धालु आस्था

Brahma ji

|| ब्रह्मा गायत्री मंत्र || ब्रह्म गायत्री मंत्र के लाभ |||| ब्रह्मा गायत्री मंत्र || ब्रह्म गायत्री मंत्र के लाभ ||

|| ब्रह्मा गायत्री मंत्र ||   ॐ वेदात्मने विद्महे हिरण्यगर्भाय धीमहि तन्नो ब्रह्म प्रचोदयात्॥ ॐ चतुर्मुखाय विद्महे कमण्डलु धाराय धीमहि तन्नो ब्रह्म प्रचोदयात्॥ ॐ परमेश्वर्याय विद्महे परतत्वाय धीमहि तन्नो ब्रह्म

Ram ji

रघुपति राघव राजाराम- श्रीलक्ष्मणाचार्यरघुपति राघव राजाराम- श्रीलक्ष्मणाचार्य

रघुपति राघव राजाराम- श्रीलक्ष्मणाचार्य   रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम गंगा तुलसी शालग्राम ॥ भद्रगिरीश्वर सीताराम भगत-जनप्रिय सीताराम ॥ जानकीरमणा सीताराम जयजय राघव सीताराम ॥